.
Skip to content

गीत- बेटी क्यूँ धनधान्य पराया

Gope Kumar

Gope Kumar

गीत

January 19, 2017

गीत ( अजन्मा की पुकार ) *****

बेटी क्यों धनधान्य पराया

गर्भ मातु के मै मुस्काई
देख देख अपनी परछाँई
तभी किरण इक चुभती चमकी
खीच रही मेरी प्रतिछाँई
मेरा कोमल मन अकुलाया *******१*****

फिर सब कुछ सामान्य हो गया
भय भी चादर तान सो गया
बाहर से अनजान रहा मन
खानदान विष बीज बो गया
उभर रहा बंदिश का साया *********२******

समानांतरी रेखा जीवन
त्रिर्यक रेखा महाकाल बन
काट गयी जीवन रेखा को
आंँड़ा तिरछा कर विच्छेदन
रही तडपती मेरी काया **********३*******

माँझा मीन कंठ जिमि ब्यापा
फटी रह गयीं आँखें ”पापा” ,
बहुत पुकारा सुना न तुमनें
कब्र बन रही गर्भक कारा

साया कब बनता सरमाया ***** ४*****

डाक्टर की वह तेज कटारी
अंग कट रहे बारी बारी ,,
लूली लँगडी , सिकुडी सिमटी
अब आयी गर्दन की बारी
देखो सर धड से छितराया ******५*******

चलो अलविदा कहे अजन्मा
फूलो फलो सदा माँ पापा
बीर कलाई होगी सूनी
रोयेगा राखी का धागा
देखी तेरे जग की माया ********६*******

गोप कुमार मिश्र

Author
Gope Kumar
Recommended Posts
कविता- बेटी
बेटी है स्वर्ग धरा का , मानव का है नन्दनवन । ेटी अंधविश्वास का अन्त है , बेटी है नव परिवर्तन । बेटी आधुनिकता का... Read more
बेटी
शक्ति का संचार है बेटी भक्ति का द्वार है बेटी मुक्ति का मार्ग है बेटी सृजन संसार है बेटी मन का भाव है बेटी रामायण... Read more
बेटी
बेटी है आधार जगत का बेटी से है सार जगत का बेटी देवी,बेटी सीता बेटी बाइबल,कुरान और गीता। बेटी में संसार छिपा है जग का... Read more
आज भी बेटी कल भी बेटी
*हलचल बेटी* एक सवाल एक हल भी बेटी,, आज भी बेटी कल भी बेटी,, खामोशी इन लवो की बेटी,, और दिल की हलचल बेटी,, आसानी... Read more