.
Skip to content

गीत :ज़िग़र मोहब्बत का है मंदिर..???

Radhey shyam Pritam

Radhey shyam Pritam

गीत

June 8, 2017

प्रेम मेरा है देख ज़रा तू,सुंदर मधुर मनोहर।
तेरी छवि दिल में बसी रहे आठों ही पहर।।

तू हवा-सी चंचल,झरनों-सी बहती कलकल।
तेरा रूप मेरी आँखों में सजता देख पलपल।
एक स्वर हो,एक ज़िग़र हो एक प्रीत डगर।
तेरी छवि……………………

तुझे हँसता देख मेरे दिल का चाँद खिलता है।
तेरा रूप इतना सलौना देख फ़रिश्ता जलता है।
मुझको भाता भोलापन ये सादापन तेरा निखर।
तेरी छवि…………………….

ये शर्मिली आँखें,ये नाज़ुक होठों के दो फूल।
मुझे सिखाते हैं रिझाकर वफ़ा के सारे उसूल।
यूँ लगता मेरा. दिल तेरी चाहतों का है शहर।
तेरी छवि…………………..

ये कोयल-सी बोली,ये ज़ालिम हैं तेरी अदाएँ।
मुझे लुभाती हैं बुलाकर चंचल भाव-भंगिमाएँ।
यूँ लगता मेरा मन तेरी आरज़ू की है डगर।
तेरी छवि……………………

ये केशों के बादल,हवा में लहराता ये आँचल।
मुझे बुलाता है सताकर चेहरे का काला तिल।
यूँ लगता है मेरा जिगर मोहब्बत का है मंदिर।
तेरी छवि…………………….
…राधेयश्याम बंगालिया..प्रीतम
कृत.सर्वाधिकार सुरक्षित गीत….???

Author
Recommended Posts
खंजर  देख  ना  कटार देख
खंजर देख ना कटार देख तू क़लम देख और धार देख आई नहीं ख़बर इक तेरी हर दिन आता अख़बार देख दिल के दरीचे खोल... Read more
मुक्तक
तेरी आँखों में झील सी गहरायी है! तेरी अदाओं में कैद अंगड़ायी है! जबसे देख लिया है तेरे रुखसार को, तेरी जिगर में तस्वीर उतर... Read more
⁉क्या है तू ⁉
⁉क्या है तू ⁉ रुह की प्यास बुझा दी है तेरी क़ुरबत ने। तू कोई झील है, झरना है, घटा है, क्या है तू? नाम... Read more
कविता : दिल की धड़कन??
दिल की धड़कन ये,कुछ कहती है। मेरी आँखों में तू,रब-सी रहती है।। तेरा दीदार कुछ,अधूरा-सा है अभी। शीतल पवन-सी,तू मन में बहती है।। मैं तेरा... Read more