गीत : तेजस्वी आत्माएँ

गीत: तेजस्वी आत्माएँ
¤दिनेश एल० “जैहिंद”

( 1 )

वे सारी तेजस्वी आत्माएँ याद हैं……
निज देश का गौरव तथा सौरभ अतीत का,
मन में वह यश-गर्व यश-गर्व उस राजपूत का ।
वह घास की रोटी एवं घासों पर सो जाना,
दाना क्या, दाना, बिन जल पिए रह जाना ।।
खाना वह कसम प्रताप का, चमकती तलवारें याद हैं—
तलवारें क्यों ? वे सारी तेजस्वी आत्माएँ याद हैं ।

( 2 )

देती है सीख हमें उस महाछत्र की यय्यारी,
धोखाधड़ी न कहो कहो उनकी समझदारी ।
कुशल राजनीतिज्ञ थे योद्धा महान देशभक्त,
थे गुनी, गुनखान वे माता के आदर्श-भक्त ।।
उपाधि मिली छत्रपति की, वे सारी कथाएँ याद हैं—
कथाएँ क्यों ? वे सारी तेजस्वी आत्माएँ याद हैं ।

( 3 )

थी लक्ष्मी वीरांगना कहता कौन अबला थी,
सबलता दिखा दी वो दुर्गा रूप सबला थी ।
तलवार क्यों भाले चमचम चमकते बाँहों में,
तड़-तड़ तड़कती बर्छी जिसके मजबूत हाथों में ।।
वह रानी, महारानी जिसकी वह बलिदानी याद है—
बलिदानी क्यों ? वे सारी तेजस्वी आत्माएँ याद हैं ।

( 4 )

छुपा अपार साहस जिसके महान भोलेपन में,
कैसा बल कैसी हिम्मत उस दुर्बल लंबे तन में ।
पथ-प्रदर्शक थे वह किए देश सेवा हरक्षण वे,
कलुष भेद मिटाए हर्षाए भू का कण-कण वे ।।
जिसने सिखाया सत्य-अहिंसा का पाठ हमें याद है—
वह ही क्यों ? वे सारी तेजस्वी आत्माएँ याद हैं ।

==============
दिनेश एल० “जैहिंद”
26. 01. 2018

Do you want to publish your book?

Sahityapedia's Book Publishing Package only in ₹ 9,990/-

  • Premium Quality
  • 50 Author copies
  • Sale on Amazon, Flipkart etc.
  • Monthly royalty payments

Click this link to know more- https://publish.sahityapedia.com/pricing

Whatsapp or call us at 9618066119
(Monday to Saturday, 9 AM to 9 PM)

*This is a limited time offer. GST extra.

Like Comment 0
Views 2

You must be logged in to post comments.

Login Create Account

Loading comments
Copy link to share
Sahityapedia Publishing