Skip to content

गीत : तुम क्या जानो दुख पायल का ?

डॉ. हीरालाल प्रजापति

डॉ. हीरालाल प्रजापति

गीत

February 12, 2017

तुम क्या जानो दुख पायल का ,
तुमको तो छन – छन से मतलब ?
चूड़ी कितनी चिटके – टूटे ,
तुमको बस खन – खन से मतलब ?
तुमको बस अच्छे लगते वो
मेंढक जो टर्राते हैं सच ।
गाने वालों से ज़्यादा प्रिय
तुमको जो चिल्लाते हैं सच ।
तुमको कोयल की कूकें ,
बुलबुल के नग्में कब जँचते रे ?
टकराहट से निकले कर्कश –
स्वर ही तुमको भाते हैं सच ।
तुम क्या समझो ठुकती कीलों
के माथे की पीड़ा को हाँ ?
कितनी चोटें सहता घण्टा ?
तुमको बस टन – टन से मतलब ॥
चूड़ी कितनी चिटके – टूटे ,
तुमको बस खन – खन से मतलब ?
हर पल चौकन्ना रहता
बचता फिरता निश – भोर पवन से ।
कठिनाई से ख़ुद को रखता
दीप्त घिरा चहुंओर पवन से ।
वह उस पाटल की पंखुड़ियों सा
कोमल जो झड़ जाता रे ,
अश्वचलन से चलने वाली
अंधड़ सी घनघोर पवन से ।
तुमको साँय – साँय जो प्यारी
वो दीपक को हाहाकारी ,
तुम क्या जानो उसके भय को ?
तुमको बस सन – सन से मतलब ॥
चूड़ी कितनी चिटके – टूटे ,
तुमको बस खन – खन से मतलब ?
-डॉ. हीरालाल प्रजापति

Recommended
ये माना घिरी हर तरफ तीरगी है
ये माना घिरी हर तरफ तीरगी है मगर छन भी आती कहीं रोशनी है न करती लबों से वो शिकवा शिकायत मगर बात नज़रों से... Read more
आहिस्ता आहिस्ता!
वो कड़कती धूप, वो घना कोहरा, वो घनघोर बारिश, और आयी बसंत बहार जिंदगी के सारे ऋतू तेरे अहसासात को समेटे तुझे पहलुओं में लपेटे... Read more
क्यू नही!
रो कर मुश्कुराते क्यू नही रूठ कर मनाते क्यू नही अपनों को रिझाते क्यू नही प्यार से सँवरते क्यू नही देख कर शर्माते क्यू नही... Read more
आस!
चाँद को चांदनी की आस धरा को नभ की आस दिन को रात की आस अंधेरे को उजाले की आस पंछी को चलने की आस... Read more
Author