Sep 17, 2016 · गीत
Reading time: 1 minute

गीत – जी लूँ जरा सा

गीत – जी लूँ जरा सा
॰॰॰॰॰॰॰॰॰॰॰॰॰॰॰॰॰॰॰॰॰॰॰॰

मुझे लग रहा मैं मनुज हूँ मरा सा
तुझे देख लूँ आज जी लूँ जरा सा

खोई खुशी आजतक ना मिली है
ढूँढा कि छोड़ी न कोई गली है
किसी ने जलाया कि पौधा हरा सा-
तुझे देख लूँ आज जी लूँ जरा सा

इस बेबसी पे हँसे ये जमाना
सूझे नहीँ आज कोई ठिकाना
बहुत काँपता है बदन ये डरा सा-
तुझे देख लूँ आज जी लूँ जरा सा

कोई नहीँ हमसफर ना सहारा
अपना बना कर सभी ने नकारा
घड़ा मैँ कि हूँ एक दुख से भरा सा-
तुझे देख लूँ आज जी लूँ जरा सा

– आकाश महेशपुरी

41 Views
Copy link to share
#3 Trending Author
आकाश महेशपुरी
248 Posts · 54.1k Views
Follow 46 Followers
संक्षिप्त परिचय : नाम- आकाश महेशपुरी (कवि, लेखक) मूल नाम- वकील कुशवाहा जन्मतिथि- 15 अगस्त... View full profile
You may also like: