गीत ....... चौकीदार नही रखना

***** चौकीदार नही रखना *****

डर लगता है चौकीदार से , चौकीदार नही रखना
देश का कहकर देश लूटाये , पहरेदार नही रखना
डर लगता है …………..
बात बनाये लाखो रोज जो , घूमें देश नया ..नया
हो खाली गद्दी पै ऐसा , होदेदार नही रखना
डर लगता है ……………
लूट, डकैती, बलात्कार को , जो कहदे सब होता है
परिवार सुरक्षा हेतू ऐसा , थानेदार नही रखना
डर लगता है ……………
फेंका फेंकी रोज करे जो , बातों को पंचायत में
मुकरे जो अपनी बातों से , लम्बरदार नही रखना
डर लगता है …………….
काला धन तो लौटा नही , और भूरा धन भी भगा दिया
सम्पति का ऐसा रक्षक , खातेदार नही रखना
डर लगता है ……………
बदलो. बदलो ” सागर ” इसको , वर्ना तो लूट जाओगे
हमको भारत वर्ष का ऐसा , पहरेदार नही रखना !!
डर लगता है ……………..!!
***********
बैखोफ शायर/ गीतकार/ लेखक ……..
डाँ. नरेश कुमार “सागर”
9897907490

Like Comment 0
Views 517

You must be logged in to post comments.

Login Create Account

Loading comments
Copy link to share
Sahityapedia Publishing