गीत- आज हँसो जी भर के

आज हँसो जी भर के
◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆
आज हँसो जी भर के न कल का ठिकाना।
किस्मत है यार इसे कौन यहाँ जाना।।
***
रोज नहीं आते हैं पल खुशियों के
किस्मत से आते हैं दल खुशियों के
यूँ खुशियों में गम का न करना बहाना-
किस्मत है यार इसे कौन यहाँ जाना।।
आज हँसो जी भर के…
***
पानी हँसेगा ये खाना हँसेगा
रहेगी उदासी जमाना हँसेगा
क्यूँ गम में यूँ रहना व खुद को सताना-
किस्मत है यार इसे कौन यहाँ जाना।।
आज हँसो जी भर के…
***
जागो रे जागो करना क्यूँ देरी
मुट्ठी में तेरे किस्मत है तेरी
है अच्छा नहीं यूँ दिन सोकर बिताना-
किस्मत है यार इसे कौन यहाँ जाना।।
आज हँसो जी भर के…

– आकाश महेशपुरी

Like Comment 0
Views 145

You must be logged in to post comments.

Login Create Account

Loading comments
Copy link to share
Sahityapedia Publishing