** गीतिका **

भवन सुंदर लगता दिखने में ।
अच्छा लगता उसमें रहने में ।
*
हमारी पूरी उम्र लग जाती है,
एक मकान को घर बनने में ।
*
हर खुशी दफन कर देते हैं,
अपनो को ही खुश करने में ।
*
जीवन कट जाता इसमें ही,
काँटे चुभते रहते चलने में ।
*
बनाते गृह,भवन फिर भी ये
रह जाता आवास कहने में ।
*
अंत में समझाते रहते स्वयं को,
क्या पाया क्या खोया देखने में ।
*
विमुख कैसे हो इससे ‘पूनम’
आती यही है जिंदगी सुनने में ।
@ पूनम झा
कोटा, राजस्थान

Like 1 Comment 0
Views 8

You must be logged in to post comments.

Login Create Account

Loading comments
Copy link to share