.
Skip to content

** गीतिका **

पूनम झा

पूनम झा

गज़ल/गीतिका

March 15, 2017

जिंदगी लगती कभी सीधी तो,कभी आरी है।
पूरी जिन्दगी इस गुत्थी को समझना भारी है।
*
डुबकी लगाना ही पड़ता है इस ऊहापोह में,
साथ हमारे रहता हमेशा वक्त की सवारी है।
*
कभी दर्द को दफन करके है हँसना पड़ता,
तो कभी बेमतलब ही हँसना रहता जारी है।
*
वक्त जाया मत करो इसको समझने में तुम
चलते चलो ये वक्त न हमारी है न तुम्हारी है।
*
कहे पूनम उलझे रहते हम इसे सुलझाने में,
यही गुत्थी कहाये जिंदगी की जिम्मेदारी है।
@पूनम झा
कोटा राजस्थान

Author
पूनम झा
मैं पूनम झा कोटा,राजस्थान (जन्मस्थान: मधुबनी,बिहार) से । सामने दिखती हुई सच्चाई के प्रति मेरे मन में जो भाव आते हैं उसे शब्दों में पिरोती हूँ और यही शब्दों की माला रचना के कई रूपों में उभर कर आती है।... Read more
Recommended Posts
** गीतिका **
जिंदगी लगती कभी सीधी तो,कभी आरी है। पूरी जिन्दगी इस गुत्थी को समझना भारी है। * डुबकी लगाना ही पड़ता है इस ऊहापोह में, साथ... Read more
* सफर जिंदगी का *
Neelam Ji कविता Jun 20, 2017
आसां नहीं सफर जिंदगी का हर पल इम्तेहाँ होता है । दिल जान लगा दे जो अपनी वही इंसान कामयाब होता है । सफर ये... Read more
क्या पाएगा मंज़िल जो अभी चला भी नहीं
क्या पाएगा मंज़िल जो अभी चला भी नहीं कुछ कर गुजरूंगी ऐसा कभी लगा भी नहीं देखी हैं बहुत इसने आसमाँ की बुलंदियाँ परिंदा सफ़र... Read more
कभी-कभी
कभी-कभी ढोना पड़ती है पृथ्वी अपने ही कंधों पर । अपने लिए नहीं, समाज की रक्षा के लिए । कभी-कभी बाँधना पड़ता है आकाश को... Read more