Skip to content

गीतिका:

DrRaghunath Mishr

DrRaghunath Mishr

गज़ल/गीतिका

March 14, 2017

बड़े – बड़ों को, आइना दिखा दिया हमने.
हँसना – रोना, व गाना सिखा दिया हमने.
कल तलक, जिन्हें मालूम नहीं थीं राहें,
आज उनको भी, चला -हिला दिया हमने.
देखिये अनपढ़,दिख रहे थे जो कल तलक,
खुद से ही, खुद को खुद लिखा दिया हमने.
आइना झूठ, न कहता हरगिज़ हो कुछ भी,
सार्वभौम इस,सच से मिला दिया हमने.
अच्छा नहीं, ज्यादा गुरूर सत्य है कहन,
‘सहज’ सरल, कथन अभी पढ़ा दिया हमने.
@डॉ.रघुनाथ मिश्र ‘सहज’
अधिवक्ता/साहित्यकार
सर्वाधिकार सुरक्षित
Image may contain: 1 person
Like
Like
Love
Haha
Wow
Sad
Angry
CommentShare
News Feed
More stories

Share this:
Author
DrRaghunath Mishr
डॉ.रघुनाथ मिश्र 'सहज' अधिवक्ता/साहित्यकार/ग़ज़लकार/व्यक्तित्व विकास परामर्शी /समाज शाश्त्री /नाट्यकर्मी प्रकाशन : दो ग़ज़ल संग्रह :1.'सोच ले तू किधर जा रहा है 2.प्राण-पखेरू उपरोक्त सहित 25 सामूहिक काव्य संकलनों में शामिल

क्या आप अपनी पुस्तक प्रकाशित करवाना चाहते हैं?

आज ही अपनी पुस्तक प्रकाशित करवायें और आपकी पुस्तक उपलब्ध होगी पूरे विश्व में Amazon, Flipkart जैसी सभी बड़ी वेबसाइट्स पर

साथ ही आपकी पुस्तक ई-बुक फॉर्मेट में Amazon Kindle एवं Google Play Store पर भी उपलब्ध होगी

साहित्यपीडिया की वेबसाइट पर आपकी पुस्तक का प्रमोशन और साथ ही 70% रॉयल्टी भी

सीमित समय के लिए ब्रोंज एवं सिल्वर पब्लिशिंग प्लान्स पर 20% डिस्काउंट (यह ऑफर सिर्फ 31 जनवरी, 2018 तक)

अधिक जानकारी के लिए यहाँ क्लिक करें- Click Here

या हमें इस नंबर पर कॉल या WhatsApp करें- 9618066119

Recommended for you