गीतिका/ ग़ज़ल- देखिये कैसा जमाना आ गया

गीतिका/ ग़ज़ल- देखिये कैसा जमाना आ गया
★■★■★■★■★■★■★■★■★
देखिये कैसा जमाना आ गया
हर किसी को दिल दुखाना आ गया
***
था वहाँ मैं मौत की आगोश में
उनको’ लेकिन मुस्कुराना आ गया
***
मुझको’ तेरी बस इसी तस्वीर से
आजकल है दिल लगाना आ गया
***
हर किसी को है पड़ी अपनी मगर
और पर आँसू बहाना आ गया
***
आ गया शमशान के नजदीक मैं
यूँ लगा जैसे ठिकाना आ गया
***
मैं चला ‘आकाश’ रब को ढूंढने
पर किसी के काम आना आ गया

– आकाश महेशपुरी

531 Views
Copy link to share
आकाश महेशपुरी
आकाश महेशपुरी
243 Posts · 47.8k Views
Follow 39 Followers
संक्षिप्त परिचय : नाम- आकाश महेशपुरी (कवि, लेखक) मूल नाम- वकील कुशवाहा जन्मतिथि- 15 अगस्त... View full profile
You may also like: