23.7k Members 50k Posts

गीतिका- हँसना तो एक बहाना है

गीतिका- हँसना तो एक बहाना है
~~~~~~~~~~~~~~~~~~~
हँसना तो एक बहाना है।
गम का भी इधर खजाना है।।
०००
क्यूँ बैठा हूँ आस लगाए,
किसका ये हुआ जमाना है।
०००
है चाहत मिल जाये दुनिया,
पर दुनिया से ही जाना है।
०००
आखिर कितना दर्द सहेंगे,
कुछ इसका भी पैमाना है।
०००
है जितना नजरों में पानी,
बस अपनों का नजराना है।
०००
कितना भी “आकाश” उड़ो तुम,
इस धरती पर ही आना है।

– आकाश महेशपुरी

131 Views
आकाश महेशपुरी
आकाश महेशपुरी
कुशीनगर
221 Posts · 41.4k Views
संक्षिप्त परिचय : नाम- आकाश महेशपुरी (कवि, लेखक) मूल नाम- वकील कुशवाहा माता- श्री मती...