.
Skip to content

गीतिका- हँसना तो एक बहाना है

आकाश महेशपुरी

आकाश महेशपुरी

गज़ल/गीतिका

September 23, 2016

गीतिका- हँसना तो एक बहाना है
~~~~~~~~~~~~~~~~~~~
हँसना तो एक बहाना है।
गम का भी इधर खजाना है।।
०००
क्यूँ बैठा हूँ आस लगाए,
किसका ये हुआ जमाना है।
०००
है चाहत मिल जाये दुनिया,
पर दुनिया से ही जाना है।
०००
आखिर कितना दर्द सहेंगे,
कुछ इसका भी पैमाना है।
०००
है जितना नजरों में पानी,
बस अपनों का नजराना है।
०००
कितना भी “आकाश” उड़ो तुम,
इस धरती पर ही आना है।

– आकाश महेशपुरी

Author
आकाश महेशपुरी
पूरा नाम- वकील कुशवाहा "आकाश महेशपुरी" जन्म- 20-04-1980 पेशा- शिक्षक रुचि- काव्य लेखन पता- ग्राम- महेशपुर, पोस्ट- कुबेरस्थान, जनपद- कुशीनगर (उत्तर प्रदेश)
Recommended Posts
गीतिका को समर्पित गीतिका
गीतिका को समर्पित गीतिका ■■■■■■■■■■■■■■ दिल को' करती है' हर्षित विधा गीतिका, अब तो' सबको समर्पित विधा गीतिका। ~~~ है न चोरी का' भय ही,... Read more
गीतिका/ ग़ज़ल- देखिये कैसा जमाना...
गीतिका/ ग़ज़ल- देखिये कैसा जमाना... ★■★■★■★■★■★■★■★■★ देखिये कैसा जमाना आ गया हर किसी को दिल दुखाना आ गया *** था वहाँ मैं मौत की आगोश... Read more
गीतिका
गीतिका मात्रा भार-१० ००० कष्ट गलता नहीं. ग़म पिघलता नहीं. जुल्म के झुण्ड में. कर्म फलता नहीं. संगदिल आँख से, नीर बहता नहीं. आज अध्ययन... Read more
गीतिका-  जिसने खुद को है पहचाना
गीतिका- जिसने खुद को है पहचाना ◆●◆●◆●◆●◆ जिसने खुद को है पहचाना उसके आगे झुका जमाना दुनिया में तो दुख हैं लाखों फिर भी इनसे... Read more