Reading time: 1 minute

गीतिका = रोना आता है

गीतिका = रोना आता है
मात्राभार= 24 प्रति पंक्ति
समान्त =आ / पदान्त = रोना आता है
*****************************
टूट रहा श्रम का कन्धा ,रोना आता है ;
कानून बना है अन्धा ,रोना आता है ।

लात घूसे जनतंत्र के मंदिर में चलते ;
घोटालों का है धन्धा ,रोना आता है ।

दुःशासन की देन,बढ़ गए भाव अवगुण के ;
इंसान हुआ है मन्दा ,रोना आता है ।

चरित धर्म और शर्म,सब खूँटी पर लटके ;
आचरण हुआ है गन्दा ,रोना आता है ।

सुभाष शेखर भगत ,हैं करते दिलों पर राज ;
अब नेता बना दरिन्दा ,रोना आता है ।

थी धाक हमारी ,थे जादूगर हॉकी के ;
अब उड़ा जोश का परिन्दा ,रोना आता है ।

पग-पग जसाला उग रहे ,अविश्वासी शूल ;
धूर्त हुआ रब का बन्दा ,रोना आता है ।

******सुरेशपाल वर्मा जसाला

1 Comment · 42 Views
Copy link to share
Sureshpal Jasala
18 Posts · 8.7k Views
Follow 2 Followers
I am a teacher, poet n writer, published 8 books , started a new Hindi... View full profile
You may also like: