दोहे · Reading time: 1 minute

गीता के उपदेश

हटी नही जब पाप की, दिल से धुंध रमेश !
व्यर्थ हुए सारे सुने,……. गीता के उपदेश !!

तुमने जब मारा नही,भीतर का शैतान !
तब गंगा में व्यर्थ है, हर डुबकी इंसान !!

अपनो से करने लगें,अपने ही जब बैर !
आ जाते हैं द्वार तक, बैरी के फिर पैर ! !
रमेश शर्मा

1 Like · 36 Views
Like
510 Posts · 50.3k Views
You may also like:
Loading...