.
Skip to content

गांव पर रचना

Pramod Raghuwanshi

Pramod Raghuwanshi

कविता

May 6, 2017

गांव जब से शहर हो गये
नेता तब से अंगूर हो गये ,

छोड़ दिया लोंगों का सांथ
क्योकि वे मजबूर हो गये

गांव जब से शहर हो गये
नेता तब से अंगूर हो गये

प्रमोद रघुवंशी
दिनांक :-01-01-2017

Author
Recommended Posts
*** लोगों के मुख विवर्ण हो गये ***
9.7.17 ** प्रातः 11.01** कल के अवर्ण क्यों सवर्ण हो गये लोगों के मुख क्यों विवर्ण हो गये स्वार्थ-सिद्धि होती थी,तब-तब वो ना जाने पराये... Read more
सियासत सियासत का असर देखो खान पान भी बदनाम हो गये सब्जी सारी हिन्दू हो गई बकरे सारे मुसलमान हो गये। कहा तो गया था... Read more
"सियासत "(मुक्तक " सियासत का असर देखो खान पान भी बदनाम हो गये सब्जी सारी हिन्दू हो गयी बकरे सारे मुसलमान हो गये। कहा तो... Read more
गांव गांव मे शहर
Raj Vig कविता Feb 12, 2017
गति प्रगति की तेज हो गयी रात दिन चौगुनी हो गयी नयी दिशा की राह मिल गयी पुरानी बातें सब हवा हो गयीं । चंद... Read more