गृहस्थी (कहानी)

गांव में रचना मसाला पापड़ एवं सिलाई केंद्र चलाती थी । पति जाने के बाद अकेली हो गयी वो उसके दोनों बेटे शहर में नौकरी करके अपने परिवार का गुजारा करते । रचना ने हिम्मत न हार, सरकार से की लोन की गुहार ,गांव की महिलाओं को बनाया अपना परिवार और गांव की परंपरा-संस्कृति का तहेदिल से स्वागत करते हुए शुरू किया स्वयं का व्यवसाय, जीविका का चल निकला उपाय ।

वक्त गुजरने के साथ शहर में बढ़ती मंहगाई के कारण बेटों के परिवार का गुजारा नहीं हो पाने के कारण बहुओं ने भी सासुमां को मदद करने की ठानी । आखिर में गांव की परंपरा और संस्कृति ही गृहस्थी में रंग लाई ।

Sahityapedia Publishing
Like 2 Comment 0
Views 8

You must be logged in to post comments.

Login Create Account

Loading comments
Copy link to share

Do you want to publish your book?

Sahityapedia's Book Publishing Package only in ₹ 9,990/-

  • Premium Quality
  • 50 Author copies
  • Sale on Amazon, Flipkart etc.
  • Monthly royalty payments

Click this link to know more- https://publish.sahityapedia.com/pricing

Whatsapp or call us at 9618066119
(Monday to Saturday, 9 AM to 9 PM)

*This is a limited time offer. GST extra.