.
Skip to content

“गाँव चले हम”

ज़ैद बलियावी

ज़ैद बलियावी

कविता

April 11, 2017

चलो चले हम,
गाँव चले हम!
आओ चले हम,
गाँव चले हम!
ये झुटी नगरी,
छोड़ चले हम!
ये झुटे सपने,
तोड़ चले हम!
चलो चले हम,
गाँव चले हम!
आओ चले हम,
गाँव चले हम!
चल कर के,
सपनो के पीछे!
दूर निकल गए,
कितने हम!
छोड़के अब हम,
सारे गम!
चलो चले हम,
गाँव चले हम!
जहाँ मिलकर के,
सब एक संग!
मनाएंगे होली,
और ईद हम!
आओ चले हम,
गाँव चले हम!
चलो चले हम,
गाँव चले हम!

(((ज़ैद बलियावी)))

Author
ज़ैद बलियावी
नाम :- ज़ैद बलियावी पता :- ग्राम- बिठुआ, पोस्ट- बेल्थरा रोड, ज़िला- बलिया (उत्तर प्रदेश). लेखन :- ग़ज़ल, कविता , शायरी, गीत! शिक्षण:- एम.काम.
Recommended Posts
चले आओ
फिर फहफिल सजाए चले आओ, किसी से दिल लगाये चले आओ, नफरतो में डूबा है जमाना, हम मोहब्बत फैलाये चले आओ, तुम अदा से नज़रें... Read more
शाम ढली  हम घर चले....
शाम ढली हम घर चले दिन भर मस्ती कर चले रातें लाई घर हमें सुबह हुई के फिर चले इक दूजे के साथ में छोड़... Read more
कविता:..??थी भूलभुलैया..??
थी भूलभुलैया हम ज़िधर चले। कुछ ज़ख्म भरे कुछ उभर चले।। ज़िंदगी का मौसम तो शुष्क रहा। उमड़े जो बादल जाने किधर चले।। हमने राहों... Read more
?कुछ कह सुन लिया जाए?
Sonu Jain कविता Oct 27, 2017
?कुछ कह सुन लिया जाए? कुछ कह लिया जाएं। कुछ सुन लिया जाएं। होंठ जो न कह पाएं। उन्हें आँखों में पढ़ लिया जाएं। कुछ... Read more