.
Skip to content

ग़ज़ल

Krishna Kumar Naaz

Krishna Kumar Naaz

गज़ल/गीतिका

September 10, 2016

हर वक़्त हूँ किसी न किसी इम्तिहान में
शायद इसीलिए है ये तल्ख़ी ज़ुबान में

अपनी अना की क़ैद से बाहर निकल के देख
पैवंद लग चुके हैं तेरी आन-बान में

सोह्बत बुरी मिली तो ग़लत काम भी हुए
वैसे कोई कमी तो न थी ख़ानदान में

ग़म भी, ख़ुशी भी, आह भी, आँसू भी, रंज भी
सबको जगह मिली है मेरी दास्तान में

नींदों की जुस्तजू में लगे हैं तमाम ख़्वाब
सज-धज के आ गया है कोई उनके ध्यान में

दरवाज़ा खटखटाए चले जा रहे हो ‘नाज़’
लगता है कोई शख़्स नहीं है मकान में

Author
Recommended Posts
गज़ल
------------------- ठहरे जीवन को मेरे रवानी मिली गहरे पानी में अब निशानी मिली ------------------- जुस्तजू थी ऐसी तम्मनाएं भी अब जाकर रात सुहानी मिली -------------... Read more
चार गज़लें --- गज़ल पर
गज़ल निर्मला कपिला 1------- मेरे दिल की' धड़कन बनी हर गज़ल हां रहती है साँसों मे अक्सर गज़ल इनायत रफाकत रहाफत लिये जुबां पर गजल... Read more
जुदा हो मीर से रोयी गजल ।
" गजल " ----------------------- जुदा हो मीर से रोयी गजल । न तब से आज तक सोयी गजल। . खुदा से भी पूछा आखिर कोई... Read more
ग़ज़ल।मुझको सिफ़ारिश न मिली ।
आज तक मेरे प्यार को बेसक गुज़ारिश न मिली । हूँ आंसुओ में तरबतर पर एक बारिस न मिली ।। आये इलाजे इश्क़ की बनकर... Read more