ग़र्दिशें गुज़रीं

ग़र्दिशें गुज़रीं जबीं को चूम कर, अच्छा लगा |
हादसों के साथ करना ये सफ़र अच्छा लगा ||

उम्र भर तू ज़िन्दगी महरूम कर सकती न थी |
ज़ात को हासिल तेरे ये भी हुनर अच्छा लगा ||

आँसुओं को ज़ब्त करने की मेरी थीं कोशिशें |
आस्तीं का फिर भी होना तर ब तर अच्छा लगा ||

अजनबी सा ही हमेशा देखता रहता था जो |
आईने ने आज देखा घूर कर, अच्छा लगा ||

शुहरतें आती हैं लेकर साथ में बदनामियाँ |
आदमी को शोहरतें पाना मगर अच्छा लगा ||

आजकल सुनते हैं उनको नींद भी आती नहीं |
इश्क़ का उन पर हुआ कुछ तो असर, अच्छा लगा ||

वो मेरे पहलू में आ कर जो अचानक हँस दिए |
बाद मुद्दत मुझको भी ज़ौक़े-“नज़र” अच्छा लगा ||

(ज़ौक़ = आनन्द)

Nazar Dwivedi

क्या आप अपनी पुस्तक प्रकाशित करवाना चाहते हैं?

साहित्यपीडिया पब्लिशिंग द्वारा अपनी पुस्तक प्रकाशित करवायें सिर्फ ₹ 11,800/- रुपये में, जिसमें शामिल है-

  • 50 लेखक प्रतियाँ
  • बेहतरीन कवर डिज़ाइन
  • उच्च गुणवत्ता की प्रिंटिंग
  • Amazon, Flipkart पर पुस्तक की पूरे भारत में असीमित उपलब्धता
  • कम मूल्य पर लेखक प्रतियाँ मंगवाने की lifetime सुविधा
  • रॉयल्टी का मासिक भुगतान

अधिक जानकारी के लिए इस लिंक पर क्लिक करें- https://publish.sahityapedia.com/pricing

या हमें इस नंबर पर काल या Whatsapp करें- 9618066119

Like Comment 0
Views 6

You must be logged in to post comments.

Login Create Account

Loading comments
Copy link to share