.
Skip to content

ग़मों की दुनिया तलाश लोगे बुरा करोगेे

Salib Chandiyanvi

Salib Chandiyanvi

गज़ल/गीतिका

September 7, 2016

ग़मों की दुनिया तलाश लोगो बुरा करोगे
अलेहदा सबसे रहा.. करोगे बुरा करोगे

बुरा करोगे जो चुप रहोगे दुखों पे अपने
किसी से मेरे सिवा कहोगे…बुरा करोगे

ग़ज़ब करोगे मसल के फूलों को ऐडियों से
कि खुश्बुओं से……. गिला करोगे बुरा

गुरूब होने की ठान ली है जो दिल में तुमने
तुलूअ होने से भी ……डरोगे बुरा करोगे

अगर मिलोगे किसी से सालिब सिवा हमारे
यक़ीन जानो बुरा करोगे ……बुरा करोगे

Author
Salib Chandiyanvi
मेरा नाम मुहम्मद आरिफ़ ख़ां हैं मैं जिला बुलन्दशहर के ग्राम चन्दियाना का रहने वाला हूं जाॅब के सिलसिले में भटकता हुआ हापुड आ गया और यहीं का होकर रह गया! सही सही याद नहीं पर 18/20की आयु से शायरी... Read more
Recommended Posts
ग़मों की दुनियाा तलाश लोगे बुरा करोगे
ग़मों की दुनिया तलाश लोगे बुरा करोगे सभी से ख़ुद को जुदा करोगे बुरा करोगे बुरा करोगे जो चुप रहोगे ..दुखों पे अपने किसी से... Read more
स्वप्नलोक
महज स्वपनलोक की सैर से उत्पन्न कविता सदियों से एक सपना है... कहो पूरा करोगे तुम ? भूल जाओ मेरे सिवा सब कुछ .... कहो... Read more
टोटका छोड़ो, अपना कर्म सुधारो
आज एक कविता के माध्यम से कुछ कहने का मन कर गया फिर से न जाने कब सुधरेगी दुनिया, किस कशमकश में पड गयी है... Read more
मुमकिन नहीँ है अब हम  तुमको भूल जाएँ
मुमकिन नहीँ है अब हम तुमको भूल जाएँ आँखोँ मेँ बस गई है साथी तुम्हारी सूरत मुझको रुला रही है तेरे साथ की जरूरत आओ... Read more