Skip to content

ग़मे इश्क में हूँ बीमार…..

दिनेश एल०

दिनेश एल० "जैहिंद"

गज़ल/गीतिका

November 12, 2017

ग़मे इश्क में हूँ बीमार……
// दिनेश एल० “जैहिंद”

गमे इश्क़ में हूँ बीमार, चले आइए ।।
रहम खाइए हे सरकार, चले आइए ।।

लरजते आँसू, धड़कते दिल ओ हम,,
सभी रहते अब बेक़रार, चले आइए ।।

हमें इस तरह ना सताइए ये हुज़ूर,
आइए-आइए इक बार, चले आइए ।।

दिन उदासियों में ओ रात अकेले कटे,
दिले आरज़ू है इस बार, चले आइए ।।

मिरे ख्वाबों के राजा, मेरे ओ बालम,
हैं आप ही हमारा प्यार, चले आइए ।।

इल्तिजा है आपसे तमन्ना है आपकी,
जरूरत तो है दो-चार, चले आइए ।।

खबर दे दो इनकार ना करो “जैहिंद”,
है अब आपको खबरदार, चले आइए ।।

==============
दिनेश एल० “जैहिंद”
22. 06. 2017

Author
दिनेश एल०
मैं (दिनेश एल० "जैहिंद") ग्राम- जैथर, डाक - मशरक, जिला- छपरा (बिहार) का निवासी हूँ | मेरी शिक्षा-दीक्षा पश्चिम बंगाल में हुई है | विद्यार्थी-जीवन से ही साहित्य में रूचि होने के कारण आगे चलकर साहित्य-लेखन काे अपने जीवन का... Read more
Recommended Posts
ग़ज़ल- नज़ारे बड़े अलहदा हो चले हैं
ग़ज़ल- नज़ारे बड़े अलहदा हो चले हैं ◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆ नज़ारे बड़े अलहदा हो चले हैं कि जबसे वे हमसे खफा हो चले हैं हैं दिल में... Read more
मै इश्क़ विरोधी हूँ....
हम तो उस महफ़िल में ही मर गए थे जहाँ आवाज़ उठाई थी, मेरी उठाई हर एक आवाज को गलत बताई थी, मै इश्क़ करता... Read more
फूल - सी कोमल गुलाबी ताज़गी ले आइए ( ग़ज़ल) पोस्ट १९
ग़ज़ल ::: फूल - सी कोमल गुलाबी ताज़गी ले आइए जोड़ दे जो दो दिलों को सादगी ले आइए तब कहेंगे मत मिटो अपने वतन... Read more
मुक्तक
टूट रहा हूँ मैं गमे-अंजाम सोचकर! टूट रहा हूँ मैं गमे-नाकाम सोचकर! मंजिल डरी हुई है दर्द-ए-बेरुखी से, तेरी बेवफाई का पैगाम सोचकर! मुक्तककार- #महादेव'