.
Skip to content

ग़ज़ल

ईश्वर दयाल गोस्वामी

ईश्वर दयाल गोस्वामी

गज़ल/गीतिका

November 19, 2016

ख़ूब़सूरत ग़ुनाह हो जाए।
दिल ये उन पै तब़ाह हो जाए।
फ़लसफ़े छोड़ दो अरे वाइज़,
द़ीद की जो पनाह़ हो जाए ।
मेरा तेरे सिवा नहीं कोई ,
इसका तू ही ग़वाह हो जाए ।
आह से आह तक मिले जो तू,
आह भरने की आह हो जाए ।
काफ़िये खिल उठें रदीफ़ों से,
नज्म़ की वाह-वाह हो जाए ।
मक्त़े के श़ेर की ज़रूरत क्या है,
नज्म़ ही जो निग़ाह हो जाए ।

Author
ईश्वर दयाल गोस्वामी
-ईश्वर दयाल गोस्वामी कवि एवं शिक्षक , भागवत कथा वाचक जन्म-तिथि - 05 - 02 - 1971 जन्म-स्थान - रहली स्थायी पता- ग्राम पोस्ट-छिरारी,तहसील-. रहली जिला-सागर (मध्य-प्रदेश) पिन-कोड- 470-227 मोवा.नंबर-08463884927 हिन्दीबुंदेली मे गत 25वर्ष से काव्य रचना । कविताएँ समाचार... Read more
Recommended Posts
तू मेरी नज़रों मे ना खुदा हो जाए
तू मेरी नज़रों मे ना खुदा हो जाए अच्छा होगा कि अब तू मुझसे जुदा हो जाए, इससे पहले कि कोई मुझसे खता हो जाए... Read more
मरमरी बदन तेरा धूप में न जल जाए
गैर तरही ग़ज़ल ******** 212 1222 212 1222 नाज़ हुस्न पे मत कर एक दिन ये ढल जाए आने-जाने वाला रुत पल में ही बदल... Read more
लिखदूं कुछ अलफ़ाज़ में यूँ जो पढे तू मेरी हो जाए ।
लिखदूं कुछ अलफ़ाज़ में यूँ जो पढे तू मेरी हो जाए । तनहा दुनिया से बेफिक्र हो रख काँधे सर तू सो जाए । लिखदूं... Read more
कोई ग़ाफ़िल कहाँ भला जाए
जी मेरा भी सुक़ून पा जाए तेरा जी भी जो मुझपे आ जाए काश आ जाऊँ तेरे दर पे मैं और वाँ मेरा गाम लड़खड़ा... Read more