.
Skip to content

ग़ज़ल

Sube singh Sujan

Sube singh Sujan

गज़ल/गीतिका

July 12, 2017

तन्हा से छत पे बैठे हो, ठीक ठाक तो हो ?
क्या बात?खुद से लड़ते हो ठीक ठाक तो हो?

जगजीत सिंह को सुनते हो ,ठीक ठाक तो हो ?
ग़ालिब के शेर पढ़ते हो ठीक ठाक तो हो?

क्यों खुद ही हँसने लगते हो ठीक ठाक तो हो ?
बिन बात रोने लगते हो ठीक ठाक तो हो ?

दुनिया की बातें करना,दुनिया की बातें सुनना,
तुम किससे बात करते हो ठीक ठाक तो हो?

सूबे सिंह सुजान

Author
Sube singh Sujan
Poetry ग़ज़लें,गीत,कविता व कहानी लेखन ग़ज़ल संग्रह "सीने में आग " प्रकाशित है मासिक पत्रिका,समाचार पत्रों में रचनाएँ प्रकाशित व आकाशवाणी प्रसारण तथा साहित्य संस्थाओं में भागीदारी के साथ राष्ट्रीय कवि सम्मेलनों में प्रमुखता से भाग लेते रहे हैं ।
Recommended Posts
कविता: ??जब हम बातें करते हों??
दिल के नरम लोगों का गुस्से में आना ठीक नहीं।। जब हम बातें करते हों तो तेवर दिखाना ठीक नहीं।। तुम चाहते हो हमें कितना... Read more
हिंदीग़ज़ल में होता है ऐसा !  +रमेशराज
‘हिन्दी-ग़ज़ल’ के अधिकांश समर्थक, प्रवर्त्तक , समीक्षक, लेखक और उद्घोषक मानते हैं कि -‘ग़ज़ल शब्द मूलतः अरबी भाषा का शब्द है, जिसका अर्थ है-‘नारी के... Read more
आखिर तुम भी तो एक पुरुष ही हो न
कितनी आसानी से कह दिया था तुमने सब कुछ ठीक तो है पर तुम भी अच्छी तरह जानते थे कुछ भी तो ठीक नहीं था... Read more
क्या यह ठीक हुआ?
क्या यह ठीक हुआ, जिसकी कोख में पले बढ़े और फिर दुनिया में जनम लिया उसे ही घर से बाहर किया? क्या यह ठीक हुआ,... Read more