ग़ज़ल

जिन्दगी का कोई पल अनछुया न रह जाए
बुझा शाम का कोई भी दिया न रह जाए
लाना है हर बात को ज़माने के सामने
अंजाने में कोई बात छिपा न रह जाए
हर पेज को भर दीजिए अपने कलम से
कोई भी दर्द का पन्ना मिटा न जाय
आ जाइए दोस्तों जमाने के सामने
तहरीर पन्नो में ही लिखा न रह जाए
ऐ काश!आये खुबसूरत जमाना “नूरी”
हमेशा की तरह दिल टूटा न रह जाए।

नूरफातिमा खातून “नूरी”
‌‌‌१३/४/२०२०

3 Likes · 13 Views
नूरफातिमा खातून" नूरी" सहायक अध्यापिका प्राथमिक विद्यालय हाता-3 ब्लाक-तमकुही जिला-कुशीनगर उत्तर प्रदेश पिता का नाम-श्रीअख्तर...
You may also like: