.
Skip to content

ग़ज़ल

ईश्वर दयाल गोस्वामी

ईश्वर दयाल गोस्वामी

गज़ल/गीतिका

March 25, 2017

ज़मानें ये जब भी ज़मानें न होंगे ।
तराऩें ये तब भी पुरानें न होंगे ।।
अभी से न रोको क़लम का सफ़र तुम
दिलक़श ये आगे बहानें न होंगे ।।
अगर ख़ून-ए-दिल से लिखोगे हमेशा,
कभी ख़त तुम्हारे पुरानें न होंगे ।
अभी बाँट लो तुम मुह़ब्बत की दौलत,
ख़ज़ानें ये आगे ख़ज़ानें न होंगे ।
मिला है ये जीवन भले चार दिन का,
‘ईश्वर’ ये पल भी,गँवानें न होंगे।
-ईश्वर दयाल गोस्वामी।
कवि एवं शिक्षक।

Author
ईश्वर दयाल गोस्वामी
-ईश्वर दयाल गोस्वामी कवि एवं शिक्षक , भागवत कथा वाचक जन्म-तिथि - 05 - 02 - 1971 जन्म-स्थान - रहली स्थायी पता- ग्राम पोस्ट-छिरारी,तहसील-. रहली जिला-सागर (मध्य-प्रदेश) पिन-कोड- 470-227 मोवा.नंबर-08463884927 हिन्दीबुंदेली मे गत 25वर्ष से काव्य रचना । कविताएँ समाचार... Read more
Recommended Posts
मोतिए अश्अ़ पिरोये होंगे
2122 1122 22 ग़ज़ल ********** दर्द पहलू में जो सोये होंगे अश्क़ से तकिया भिगोए होंगे ????????? याद दुनिया की कुछ नहीं होगी तेरे ख्यालों... Read more
मगर वो लोग अभी तक आपने देखे नहीं होंगे
ज़मीं पर जब कहीं भी लोग दिल वाले नहीं होंगे फ़लक पर चाँद सूरज कहकशाँ तारे नहीं होंगे .................. बताऊँ मैं तुम्हें क्यूँ आज कल... Read more
[[ जुबाँ  अपनी  मुहब्बत  में  कभी  बोले नही होंगे ]]
? जुबाँ अपनी मुहब्बत में कभी बोले नही होंगे दबे है राज जो दिल में , कभी खोले नही होंगे १ लगे है लाख जो... Read more
ग़ज़ल- चलेगी एक तेरी क्या समय बलवान के आगे
ग़ज़ल- चलेगी एक तेरी क्या समय बलवान के आगे ◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆ अगर इतरा रहे हो तुम जो अपनी शान के आगे चलेगी एक तेरी क्या समय... Read more