ग़ज़ल

एक नेता ने कहा है, आएंगे अब दिन अच्छे ।
प्यार के गीत ही गाएंगे, अब दिन अच्छे ।।
अब न खाएगा कोई दर-ब-दर की ठोकर ,
ठांव सबके ही बनाएंगे , अब दिन अच्छे ।।
दहश़तो ज़ुर्म की अब रात न आएगी कभी,
भोर सुख-चैन की लाएंगे , अब दिन अच्छे ।।
अब न तड़पेगी किसी डाल पर चिड़िया कोई,
रोज़ ही दाना चुगाएंगे , अब दिन अच्छे ।।
चमन खिल जाएगा बिखरेगी ग़ुलों की ख़ुश़बू,
क्यारियां ऐंसी सजाएंगे , अब दिन अच्छे ।।
फ़स्ल की चूनर ही ओढ़ेगी ये धरती पूरी ,
आसमां अम़्न का लाएंगे , अब दिन अच्छे ।।
सांप मर जाएगा लाठी भी नहीं टूटेगी ,
तंत्र ऐंसा ही चलाएंगे , अब दिन अच्छे ।।
मौत गीदड़ की भी लाएगी श़ह्र की ज़ानिब़,
बात ऐंसी ही बनाएंगे , अब दिन अच्छे ।।
रहनुम़ाओं ने दें दी है तस़ल्ली सबको ,
भूख औ’ प्यास बुझाएंगे , अब दिन अच्छे ।।
आस में बंध गईं मुफ़लिस की भीगी आंखें ,
कंठ से हमको लगाएंगे , अब दिन अच्छे ।।
टिक गईं अब तो ‘ ईश्वर ‘ की भी पलकें ,
मेरे घर में भी आएंगे , अब दिन अच्छे ।

ईश्वर दयाल गोस्वामी ।

क्या आप अपनी पुस्तक प्रकाशित करवाना चाहते हैं?

साहित्यपीडिया पब्लिशिंग द्वारा अपनी पुस्तक प्रकाशित करवायें सिर्फ ₹ 11,800/- रुपये में, जिसमें शामिल है-

  • 50 लेखक प्रतियाँ
  • बेहतरीन कवर डिज़ाइन
  • उच्च गुणवत्ता की प्रिंटिंग
  • Amazon, Flipkart पर पुस्तक की पूरे भारत में असीमित उपलब्धता
  • कम मूल्य पर लेखक प्रतियाँ मंगवाने की lifetime सुविधा
  • रॉयल्टी का मासिक भुगतान

अधिक जानकारी के लिए इस लिंक पर क्लिक करें- https://publish.sahityapedia.com/pricing

या हमें इस नंबर पर काल या Whatsapp करें- 9618066119

Like Comment 0
Views 411

You must be logged in to post comments.

Login Create Account

Loading comments
Copy link to share