.
Skip to content

“ग़ज़ल “

राजेश

राजेश"ललित" शर्मा

गज़ल/गीतिका

January 6, 2017

दो पल संजो कर रख लिये थे; तुम्हारी याद के।
आये तुम उनको उठा कर चले गये।।

वक़्त ने फाहा रखा था ज़ख़्म पे।
आये तुम बस खुरच कर चले गये।।

यूं तो बैठे महफ़िल में हम साथ थे।
गये तुम तो फ़ासले दिखा कर चले गये।।

न जाने किस वजह रुसवा हुये।
आये तुम सबको वजह बता कर चले गये।।
राजेश”ललित”शर्मा

Author
राजेश
मैंने हिंदी को अपनी माँ की वजह से अपनाया,वह हिंदी अध्यापिका थीं।हिंदी साहित्य के प्रति उनकी रुचि ने मुझे प्रेरणा दी।मैंने लगभग सभी विश्व के और भारत के मूर्धन्य साहित्यकारों को पढ़ा और अचानक ही एक दिन भाव उमड़े और... Read more
Recommended Posts
ग़ज़ल- नज़ारे बड़े अलहदा हो चले हैं
ग़ज़ल- नज़ारे बड़े अलहदा हो चले हैं ◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆ नज़ारे बड़े अलहदा हो चले हैं कि जबसे वे हमसे खफा हो चले हैं हैं दिल में... Read more
ग़ज़ल
क्यूँ नज़र से नज़ारे जुदा हो गये लग रहा खुद नज़र में खुदा हो गये इश्क़ में कर सका बस मैं इतनी वफ़ा बेवफा से... Read more
मुक्तक
क्यों तुम शमा-ए-चाहत को बुझाकर चले गये? क्यों तुम मेरी जिन्दगी में आकर चले गये? हर गम को जब तेरे लिए सहता रहा हूँ मैं,... Read more
गजल
वक्त के सितम यूँ सिलसिलों से, गुजरते चले गये ! बेख्याली में यूहीं हम,तेरा इंतजार करते चले गये !! मेरे शहर की हवा भी कुछ,बदली... Read more