Skip to content

ग़ज़ल

ईश्वर दयाल गोस्वामी

ईश्वर दयाल गोस्वामी

गज़ल/गीतिका

November 30, 2016

द्वेष-भाव के काफ़िले हैं ।
मज़बूरी में प्राण हिले हैं ।
अकिंचन की वेदना में ,
आशाओं के ग़ुल खिले हैं।
धैर्य मानव में नहीं अब ,
त्याग के ढहते किले हैं ।
जो कहेंगे सत्य, उनके ,
मौत के ही सिलसिले हैं ।
देखते हो, देख लो तुम ,
हर जग़ह शिक़वे-ग़िले हैं ।

Author
ईश्वर दयाल गोस्वामी
-ईश्वर दयाल गोस्वामी कवि एवं शिक्षक , भागवत कथा वाचक जन्म-तिथि - 05 - 02 - 1971 जन्म-स्थान - रहली स्थायी पता- ग्राम पोस्ट-छिरारी,तहसील-. रहली जिला-सागर (मध्य-प्रदेश) पिन-कोड- 470-227 मोवा.नंबर-08463884927 हिन्दीबुंदेली मे गत 25वर्ष से काव्य रचना । कविताएँ समाचार... Read more
Recommended Posts
गजल है
निछावर जान यारी पर करना गजल है गमें दिल को लफ्जों में लिखना गजल है बदलती हूँ करवट यादों में किसी की दर्दों को मुहब्बत... Read more
चार गज़लें --- गज़ल पर
गज़ल निर्मला कपिला 1------- मेरे दिल की' धड़कन बनी हर गज़ल हां रहती है साँसों मे अक्सर गज़ल इनायत रफाकत रहाफत लिये जुबां पर गजल... Read more
[[ मुहब्बत  में  सबकुछ  ही सहना  ग़ज़ल है ]]
मुहब्बत में सबकुछ ही सहना ग़ज़ल है ,! गमे दिल को लफ्ज़ो में कहना गजल है ,!! कलम लिख रही है मुहब्बत दिलो की ,!... Read more
गजल कहो
नजरोँ से नजर मिलाकर गजल कहो सारे शिकवे गिले भुलाकर गजल कहो चेहरे पे हो मायूसी तो अच्छा नहीँ लगता मेरी बात मानो मुस्कुराकर गजल... Read more