.
Skip to content

ग़ज़ल

Faiz Badayuni

Faiz Badayuni

गज़ल/गीतिका

November 26, 2016

ग़ज़ल
*******
ज़िन्दग़ानी में मेरे साथ, दग़ा मत करना
दिल कभी मेरा दुखे ऐसी, ख़ता मत करना
*******
जो भी कहना है तुम्हें,दिल की कहो तो हमदम
रोज़े महशर मे कहीं,मुझसे ग़िला मत करना
*******
जो समझते ही नहीं, क्या हैं वफ़ा के माअनी
ऐसे लोंगों से तो ,उम्मीद-ए-वफ़ा मत करना
**********
मैं हूँ बीमारे मुहब्बत , है ये मेरी ख़्वाहिश
ज़हर दे देना मुझे, मेरी दवा मत करना
*********
जब ज़माने की नज़र तुम पे कभी टेड़ी हो
अपने महबूब से छुप छुप के मिला मत करना
***********
राहे हक़ से मैं भटक जाऊँ, जिसे पाकर के
मेहरबानी वो कभी, मेरे ख़ुदा मत करना
********
चाहने वाला नसीबों से, मिला करता है
भूल कर भी मुझे तुम ,दिल से जुदा मत करना
*******
दिल के जज़्बात जो समझे है बड़ी मुश्क़िल से
ऐसे आशिक़ पे कोई, जान फ़िदा मत करना
********
लाख दुनिया ये, बुराई पे उतर आये अब
जान कर “फ़ैज़ “किसी का भी बुरा मत करना
*******
Geetkaar Faiz Badayuni
Phone no-09958919395 (Delhi)

Author
Faiz Badayuni
Recommended Posts
वफा के इतने सवाल मत कर
"जमाने भर का ख्याल मत कर। वफ़ा के इतने सवाल मत कर। नहीं मिलेगा कोई सहारा, तू रो के दिल को बेहाल मत कर। कद्र... Read more
दर्द भरा गीत
दर्द भरा नग़मा : बहुत गहरा है ये दरिया इसे तुम पार मत करना मुहब्बत हो भी जाये तो कभी इज़हार मत करना : कोई... Read more
चार गज़लें --- गज़ल पर
गज़ल निर्मला कपिला 1------- मेरे दिल की' धड़कन बनी हर गज़ल हां रहती है साँसों मे अक्सर गज़ल इनायत रफाकत रहाफत लिये जुबां पर गजल... Read more
क्या बताऊँ............. गज़ल
रदीफ़ :- गजल क्या बताऊँ तुझे मैं की क्या है गजल, बेवफा है कि तुझ सी वफा है गजल. तेरी जुल्फों में है जैसे उलझी... Read more