.
Skip to content

ग़ज़ल :– सारे शहर में जुल्म है आक्रोश है !!

Anuj Tiwari

Anuj Tiwari "इन्दवार"

गज़ल/गीतिका

June 7, 2016

गज़ल –: सारे शहर में जुल्म है आक्रोश है !!

ग़ज़लकार –: अनुज तिवारी “इंदवार”

☀☀ग़ज़ल☀☀
हर शहर में ज़ुल्म है आक्रोश है
मेरे दिल तू किसलिये खामोश है।

ज़ुल्म सहना भी तो यारों ज़ुल्म है
कौन कहता है कि तू निर्दोष है।

बस्तियां सारी शहर की जल रहीं
छुप रहा अब तू जहां खरगोश है।

उनको सोना-चांदी खाने दीजिये
हमको रोटी-दाल में सन्तोष है।

हर तरफ अंधेर है यूँ लग रहा
बेईमान का चारो तरफ़ जयघोष है।

कवि—-अनुज तिवारी “इंदवार”

Author
Anuj Tiwari
नाम - अनुज तिवारी "इन्दवार" पता - इंदवार , उमरिया : मध्य-प्रदेश लेखन--- ग़ज़ल , गीत ,नवगीत ,कविता , हाइकु ,कव्वाली , तेवारी आदि चेतना मध्य-प्रदेश द्वारा चेतना सम्मान (20 फरवरी 2016) शिक्षण -- मेकेनिकल इन्जीनियरिंग व्यवसाय -- नौकरी प्रकाशित... Read more
Recommended Posts
ग़ज़ल (इस शहर  में )
ग़ज़ल (इस शहर में ) इन्सानियत दम तोड़ती है हर गली हर चौराहें पर ईट गारे के सिबा इस शहर में रक्खा क्या है इक... Read more
चार गज़लें --- गज़ल पर
गज़ल निर्मला कपिला 1------- मेरे दिल की' धड़कन बनी हर गज़ल हां रहती है साँसों मे अक्सर गज़ल इनायत रफाकत रहाफत लिये जुबां पर गजल... Read more
ग़ज़ल- रोती कहानी हर तरफ है
ग़ज़ल- रोती कहानी हर तरफ है ◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆ यहाँ रोती कहानी हर तरफ है बड़ी लगती वीरानी हर तरफ है नया इक आशियाना ढूँढ लेना लगे... Read more
सीप और मोती
Neelam Sharma गीत May 21, 2017
सीप और मोती मेरा दिल बंद सीप है और सनम तू उसमें है मोती तेरा मेरा साथ ऐसा है कि जैसे दीपक​ संग ज्योति। तू... Read more