.
Skip to content

ग़ज़ल :– ले चल मुझे मैं जहाँ चाहता हूँ !!

Anuj Tiwari

Anuj Tiwari "इन्दवार"

गज़ल/गीतिका

June 23, 2016

ग़ज़ल :– ले चल मुझे मैं जहाँ चाहता हूँ !!

हसीं भोर रंगी समा चाहता हूँ !
ले चल मुझे मैं जहाँ चाहता हूँ !!

ज़रा देर कर दि सँवरने में मैंने !
इसके लिये अब क्षमा चाहता हूँ !!

मज़हब के दंगों से रोया बहुत मैं !
मौसम ज़रा खुशनुमा चाहता हूँ !!

मेरा देश असहाय बूढ़ा हुआ अब !
मैं आज होना जवां चाहता हूँ !!

अब तो फलक जैसी रोशन जमीं हो !
चमकते सितारे यहाँ चाहता हूँ !!

तेरे मनचले जिगर का मुझे क्या ?
मैं बस तेरी आत्मा चाहता हूँ !!

यहाँ डस रहा जो हमारी तपन को !
अँधेरों का अब खात्मा चाहता हूँ !!

अनुज तिवारी “इन्दवार”

Author
Anuj Tiwari
नाम - अनुज तिवारी "इन्दवार" पता - इंदवार , उमरिया : मध्य-प्रदेश लेखन--- ग़ज़ल , गीत ,नवगीत ,कविता , हाइकु ,कव्वाली , तेवारी आदि चेतना मध्य-प्रदेश द्वारा चेतना सम्मान (20 फरवरी 2016) शिक्षण -- मेकेनिकल इन्जीनियरिंग व्यवसाय -- नौकरी प्रकाशित... Read more
Recommended Posts
प्यार का मौसम सुहाना चाहता हूँ
2122 2122 2122 बह्रे रमल मुसद्दस सालिम 28/07/2017 ग़ज़ल ********* मैं वतन पर जाँ लुटाना चाहता हूँ अम्न की खुश्बू बहाना चाहता हूँ दिल ये... Read more
"मेरी यादें" मैं फिर से बैंक कॉलोनी के अंतिम मकान में जाना चाहता हूँ... कुछ कच्चे-कुछ पक्के अमरुद और अनार तोड़ना चाहता हूँ मिटटी में... Read more
गले का हार होना चाहता हूँ
गले का हार होना चाहता हूँ मैं उसका प्यार होना चाहता हूँ सुना है सोच में तब्दीलियाँ हैं मिज़ाजे-यार होना चाहता हूँ उसे दुन्यावी चीज़ों... Read more
सुन ले
जितने भी चालाक लोग है सुन ले, अब मैं तुम्हें सजा देना चाहता हूँ, अब यहां पर बेवजह कुछ भी नही, हर सजा की वजह... Read more