23.7k Members 50k Posts

ग़ज़ल- रोटी और मकान नहीं है

ग़ज़ल- रोटी और मकान नहीं है
□■□■□■□■□■□
रोटी और मकान नहीं है
जीवन यह आसान नहीं है

खुद की बदहाली पर सोचो
रोता कौन किसान नहीं है

फुटपाथों पर सोने वाला
बोलो क्या इंसान नहीं है?

रोजी-रोटी ढूँढ रहा जो
वह कोई नादान नहीं है

चूल्हे में है आग भले पर
चावल और पिसान नहीं है

हाय कुपोषित बच्चों में तो
लगती जैसे जान नहीं है

भीख माँगते बच्चों पर भी
सरकारों का ध्यान नहीं है

जो बैठा “आकाश” शिखर पर
वह कोई भगवान नहीं है

– आकाश महेशपुरी
दिनांक- 06/11/2019

2 Likes · 1 Comment · 145 Views
आकाश महेशपुरी
आकाश महेशपुरी
कुशीनगर
221 Posts · 41.4k Views
संक्षिप्त परिचय : नाम- आकाश महेशपुरी (कवि, लेखक) मूल नाम- वकील कुशवाहा माता- श्री मती...