.
Skip to content

ग़ज़ल :– मेरे यार का दामन दागी निकला !!

Anuj Tiwari

Anuj Tiwari "इन्दवार"

गज़ल/गीतिका

June 8, 2016

ग़ज़ल :–मेरे यार का दामन दागी निकला !!
गज़लकार :– अनुज तिवारी “इन्दवार”

मान बैठे हिम , वो आगी निकला !
मेरे यार का दामन दागी निकला !!

ये तबस्सुम दी ये आबरू जिसे !
वो बेआबरू अभागी निकला !!

हमने उनका एकतिजाज ना किया !
वो रहजनी का बुनियादी निकला !!

झूठे अफसानो को तामीर करने वाला !
वो बस हुस्न का आदी निकला !!

बेइम्तहान् चाहा था जिसको !
ना पाकी नजर का ना हाजी निकला !!

मखरुती निगाहे निदामत भरी जिन्दगी !
वो अनफास की महबस माजी निकला !!

Author
Anuj Tiwari
नाम - अनुज तिवारी "इन्दवार" पता - इंदवार , उमरिया : मध्य-प्रदेश लेखन--- ग़ज़ल , गीत ,नवगीत ,कविता , हाइकु ,कव्वाली , तेवारी आदि चेतना मध्य-प्रदेश द्वारा चेतना सम्मान (20 फरवरी 2016) शिक्षण -- मेकेनिकल इन्जीनियरिंग व्यवसाय -- नौकरी प्रकाशित... Read more
Recommended Posts
गजल गीत का सौदागर
Ashutosh Jadaun गीत Jul 28, 2017
मैं गजल गीत का सौदागर कुछ गीत बेचने निकला हूँ । जो दर्द दफन है सिने मे वो दर्द बेचने निकला हूँ ।। मैं गजल... Read more
ग़ज़ल- नहीं सोचा वही
ग़ज़ल- नहीं सोचा वही... ◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆ नहीं सोचा वही हर बार निकला सितमगर तो मेरा ही यार निकला मुहब्बत से भरीं आँखें ये तेरी लबों से... Read more
दिल से उसके जाने कैसा बैर निकला
दिल से उसके जाने कैसा बैर निकला जिससे अपनापन मिला वो ग़ैर निकला था करम उस पर ख़ुदा का इसलिए ही डूबता वो शख़्स कैसा... Read more
ग़ज़ल।मुझे हर दर्द मालुम है दवा पाने नही निकला ।
  ================ग़ज़ल================ तनिक आया हूँ गर्दिश में हवा खाने नही निकला । ग़मो का लुफ़्त लेता हूँ वफ़ा पाने नही निकला । बड़े दिन बाद पाया... Read more