.
Skip to content

ग़ज़ल: मुझे बहकाने लगी है ।

दिनेश एल०

दिनेश एल० "जैहिंद"

गज़ल/गीतिका

November 12, 2017

ग़ज़ल: मुझे बहकाने लगी है ।
// दिनेश एल० “जैहिंद”

जब से खामोशियाँ मुस्काने लगी हैं,
मेरी कुछ ख्वाहिशें सुगबुगाने लगी हैं ।

अब तलक मोहब्बत से अनजान था मैं,
तेरी मुस्कान मुझे बहकाने लगी है ।

मुझ परिंदे को इश्क़ की हवा लगी के,
तेरी उलफ़त धड़कन बढ़ाने लगी है ।

इश्क़-सा मज़ा कहीं और नहीं है यार,
मेरी अक्ल नादां अब मनाने लगी है ।

दिल में दिल का घरौंदा बनाके देख तो,
बारहा दिल को वो समझाने लगी है ।

“जैहिंद” इश्क़ में डूब के खुदा मिलेगा,
उसकी आशिकी मुझे बतलाने लगी है ।

==============
दिनेश एल० “जैहिंद”
06. 06. 2017

Author
दिनेश एल०
मैं (दिनेश एल० "जैहिंद") ग्राम- जैथर, डाक - मशरक, जिला- छपरा (बिहार) का निवासी हूँ | मेरी शिक्षा-दीक्षा पश्चिम बंगाल में हुई है | विद्यार्थी-जीवन से ही साहित्य में रूचि होने के कारण आगे चलकर साहित्य-लेखन काे अपने जीवन का... Read more
Recommended Posts
आँखों की दीवारों में नमी अब बैठने लगी
आँखों की दीवारों में नमी अब बैठने लगी भीतर की सब कच्ची , दीवारे ढहने लगी !! दर्द से अश्क़ो की मौजें , जब तड़पने... Read more
गज़ल
१२२-१२२-१२२-१२ आने लगी शमा दिलजलो को जलाने लगी पतंगो को यूं आज़माने लगी गले ज़िंदगी के जरा वो लगी कज़ा मुस्कुरा साथ आने लगी मिलाकर... Read more
दिल की धड़कन बढ़ने लगी/मंदीप
बातो में बात अब मिलने लगी, सासों में सांस अब गुलने लगी। जब भी लूँ हाथो में हाथ तुमारा, दिल की दड़कने बढ़ने लगी। लूँ... Read more
मिसरा-जिंदगी खुशनुमा रंग भरने लगी।
गज़ल मिसरा-जिंदगी खुशनुमा रंग भरने लगी। हर इक सूरत में तेरी सूरत नज़र आने लगी सच है कि जिंदगी खुशनुमा रंग भरने लगी। जीते जी... Read more