ग़ज़ल : .......... मचल मत जाना !

_______ मचल मत जाना !
@ दिनेश एल० “जैहिंद”

21 22 11 22 22

देख गुल कोई मचल मत जाना,
समझ रख संग बहल मत जाना ।

इश्क़ में….कुर्बां…..लैला मजनूँ,
सुन कहानी तू दहल मत जाना ।

राह में ढेरों हैं… फिसलन नादां,
देख सम्भल तू फिसल मत जाना ।

इल्म की सीमा में.. रह कर चल,
पार हद के तू निकल मत जाना ।

=============
दिनेश एल० “जैहिंद”
18. 09. 2017

Like Comment 0
Views 1

You must be logged in to post comments.

Login Create Account

Loading comments
Copy link to share
Sahityapedia Publishing