गज़ल/गीतिका · Reading time: 1 minute

ग़ज़ल :–पेट भरता कभी दिल्लगी से नहीं !!

ग़ज़ल :– पेट भरता कभी दिल्लगी से नहीं !!

चाँद में दाग , कहते यकीं से नहीं !
बात बनती हमारी जमीं से नहीं !!

रूबरू जब से मैं तुमसे हुआ हूँ !
शिकायत मुझे जिंदगी से नहीं !!

मिलने-मिलाने के मौशम जवां है !
तुम आओ मगर बेबसी से नहीं !!

जाना मगर , तुम थोड़ी देर ठहरो !
पेट भरता कभी दिल्लगी से नहीं !!

हुस्न जमकर लुटाओ यहाँ आज !
अब शर्म-ओ-हया रोशनी से नहीं !!

2 Comments · 212 Views
Like
118 Posts · 58.9k Views
You may also like:
Loading...