.
Skip to content

ग़ज़ल :– बंदिश ये रंजिश औ नाकाम से डर जाते हैं ॥

Anuj Tiwari

Anuj Tiwari "इन्दवार"

गज़ल/गीतिका

June 8, 2016

गज़ल :– बंदिश ये रंजिश औ नाकाम से डर जाते हैं ॥
बहर :–
2212–2212–212–2212

बंदिश ये रंजिश और नाकाम से डर जाते हैं ।
रिश्ते न हो जाए ये नीलाम से डर जाते हैं ।

मयखानों में बैठे तो हम जाम से डर जाते हैं ।
पी कर के हम तो उसके अंजाम से डर जाते हैं ।

लगता है डर जालिम ज़माने की बेहयाओ से ।
जब बेअदायी हो तो ईमाम से डर जाते हैं ।

मुस्कान की चाहत में गुमनाम है ये ज़िंदगी ।
क्यों आज हम अपने ही हर काम से डर जाते हैं।

घायल हुए हालात , अक्सर दगा के वार से ।
ईमान पे हम जीते अस्काम से डर जाते हैं ।

नाबूद इन्तीकाम से हो गया हर शक्स जो ।
डरते फिदा से थे जो , इंतिकाम से डर जाते हैं ।

Author
Anuj Tiwari
नाम - अनुज तिवारी "इन्दवार" पता - इंदवार , उमरिया : मध्य-प्रदेश लेखन--- ग़ज़ल , गीत ,नवगीत ,कविता , हाइकु ,कव्वाली , तेवारी आदि चेतना मध्य-प्रदेश द्वारा चेतना सम्मान (20 फरवरी 2016) शिक्षण -- मेकेनिकल इन्जीनियरिंग व्यवसाय -- नौकरी प्रकाशित... Read more
Recommended Posts
ग़ज़ल :- मुस्कान से डर जाते हैं !! पार्ट --2
ग़ज़ल :-- मुस्कान से डर जाते हैं ! (पार्ट--2) गज़लकार :-- अनुज तिवारी "इन्दवार" हम कायरो के झूठे गुनगान से डर जाते है ! झूठी... Read more
जहाँ में प्यार जो कर जाते हैं...................
जहाँ में प्यार जो कर जाते हैं पीकर दर्द संवर जाते हैं ख़ाली ज़रा जब होते हैं हम तेरी याद से भर जाते हैं दरिया-ए-मोहब्बत... Read more
क्यूँ हम वीरों की शहादत भूल जाते हैं?
ग़ज़ल (23.09.2016) हर बार उसकी नापाक, आदत भूल जाते है क्यूँ हम अपने वीरों की,शहादत भूल जाते हैं? घड़ी बस दो घड़ी कुर्बानियों को याद... Read more
दिल के अहसास जब घर मे फैल जाते है ....
दिल के अहसास जब घर में फ़ैल जाते है नाम बदल के हम कुछ और कहे जाते है उनसे मिलने के लाख जतन करते है... Read more