गज़ल/गीतिका · Reading time: 1 minute

ग़ज़ल :– दौलत मिली तो तौर तरीका बदल गया ।

ग़ज़ल :– दौलत मिली तो तौर तरीका बदल गया ।
बहर :– 221-2121-1221-212
रदीफ :- बदल गया
काफिया :– आ
✍🏻 अनुज तिवारी ” इंदवार ”

तहज़ीब ये बदल गई , रुतबा बदल गया ।
दौलत मिली तो तौर तरीक़ा बदल गया ।

कद रंग रूप चाल नज़ाकत मेरी वही ,
फिर आज क्यों ये प्यार तुम्हारा बदल गया ।

मगरूर थे , जवान सदा हसरतें रहीं ,
ठोकर लगी तो आज इरादा बदल गया ।

माथा वही है आज भी सिंदूर वही है ,
माथे पे वो सिंदूर का टीका बदल गया ।

बदले हुए निजाम का अहसास तब हुआ ,
जब दोस्त मेरा आप सरीखा बदल गया ।

सोचा था तेरा प्यार मुकद्दर में नहीं है ,
भगवान मेरे माथे का लेखा बदल गया ।

जिस दौर पे गुरूर जवानी में था बहुत ,
उस दौर का वो आज तो शीशा बदल गया ।

1 Like · 72 Views
Like
118 Posts · 61.5k Views
You may also like:
Loading...