23.7k Members 49.9k Posts

ग़ज़ल :-- तेरे सीने से लिपट कर सोने में सुकून मिलता है !!

ग़ज़ल :– तेरे सीने से लिपट कर सोने में सुकून मिलता है !!

तेरे सीने से लिपट कर सोने में सुकून मिलता है !
एक मैदान-ए-जंग मे फतेह होने से सुकून मिलता है !!

सुकून नही मिलता लाखों की दौलत पाने से भी !
एक लम्हा तेरे संग खोने पे सुकून मिलता है !!

ख्वनाहिशें ना रही अब ख्वाबों के खजाने मे !
तेरी यादो के हर पल संजोने मे सुकून मिलता है !!

तेरे हुस्न पे हुजूर-ए-हुक्म भी कुर्बान कर दूँ !
गर न कर पाया तो रोने पे सुकून मिलता है !!

बन्दिशे नही , वल्कि जिन्दगी है तेरी बन्दगी करना !
बन्दगी कि बारिश मे खुद को भिगोने पर सुकून मिलता है !!

तेरी यादो ने अब अश्को का सैलाब भर दिया !
उस सैलाब मे खुद को डुबोने पर सुकून मिलता है !!

अनुज तिवारी “इन्दवार”

Like Comment 0
Views 297

You must be logged in to post comments.

LoginCreate Account

Loading comments
Anuj Tiwari
Anuj Tiwari
Umaria
118 Posts · 52.4k Views
नाम - अनुज तिवारी "इन्दवार" पता - इंदवार , उमरिया : मध्य-प्रदेश लेखन--- ग़ज़ल ,...