ग़ज़ल :-- चलो इंसान बन जायें !!

ग़ज़ल :– चलो इंसान बन जायें !!
गज़लकार :– अनुज तिवारी “इन्दवार”

आज हम साथ मिलकर के एक पहचान बन जायें !
न तो हिंदू ,न ही मुस्लिम ,चलो इन्सान बन जायें !!

नफरत की गलियों में ना जज्बात घायल हों !
चलो इक दूसरे की हम यहाँ मुस्कान बन जायें !!

ना चाहिये बाबरी मस्जिद ना तो मंदिर अयोध्या का !
जहाँ अरमान पूरे हों वो हिंदुस्तान बन जायें !!

इसे गजनी नें भी लूटा यहाँ जयचंद कायर था !
लगा दें जान की बाजी चलो चौहान बन जायें!!

लाल के कैद के बदले जिसने मुल्कियत माँगी !
नमन कर हम उसे टीपू सुल्तान बन जायें !!

जिहादी जंग के ऊपर चलो मिलकर लड़ेंगे हम !
मिटेगा भय का हर साया चलो तूफान बन जायें !!

क्या आप अपनी पुस्तक प्रकाशित करवाना चाहते हैं?

साहित्यपीडिया पब्लिशिंग द्वारा अपनी पुस्तक प्रकाशित करवायें सिर्फ ₹ 11,800/- रुपये में, जिसमें शामिल है-

  • 50 लेखक प्रतियाँ
  • बेहतरीन कवर डिज़ाइन
  • उच्च गुणवत्ता की प्रिंटिंग
  • Amazon, Flipkart पर पुस्तक की पूरे भारत में असीमित उपलब्धता
  • कम मूल्य पर लेखक प्रतियाँ मंगवाने की lifetime सुविधा
  • रॉयल्टी का मासिक भुगतान

अधिक जानकारी के लिए इस लिंक पर क्लिक करें- https://publish.sahityapedia.com/pricing

या हमें इस नंबर पर काल या Whatsapp करें- 9618066119

Like Comment 0
Views 153

You must be logged in to post comments.

Login Create Account

Loading comments
Copy link to share