.
Skip to content

ग़ज़ल- उसे अपने दिल की सुनाता नहीं मैं

आकाश महेशपुरी

आकाश महेशपुरी

गज़ल/गीतिका

January 6, 2017

ग़ज़ल- उसे अपने दिल की सुनाता नहीं मैं
●○●○●○●○●○●○●○●○●○●○●○●○●
उसे अपने दिल की सुनाता नहीं मैं
कि पत्थर पे आँसू बहाता नहीं मैं

हूँ मैं ही वजह उसके सारे दुखों का
यही सोचकर मुँह दिखाता नहीं मैं

वो रूठा है जबसे, सुकूं ही सुकूं है
दिगर बात है मुस्कुराता नहीं मैं

नज़र में बसाना नज़र से गिराना
क्या उसको समझ में ही आता नहीं मैं

है “आकाश” कुछ तो सितमगर की खूबी
तभी तो उसे भूल पाता नहीं मैं

– आकाश महेशपुरी

Author
आकाश महेशपुरी
पूरा नाम- वकील कुशवाहा "आकाश महेशपुरी" जन्म- 20-04-1980 पेशा- शिक्षक रुचि- काव्य लेखन पता- ग्राम- महेशपुर, पोस्ट- कुबेरस्थान, जनपद- कुशीनगर (उत्तर प्रदेश)
Recommended Posts
****************************************** कलम की कोर से काजल , लगाता हूँ मैं कविता को । दिखा कर आइना दिल का , सजाता हूँ मैं कविता को ।... Read more
ग़ज़ल:- मैं बहुत साद हूं
. ** ग़ज़ल ** 5.2.17 *** 11.45 ************** मैं बहुत साद हूं तेरी बेखुदी से तूं है मेरी उम्मीदो का राज़ **** मैं बहुत साद... Read more
खामोश जब मैं हो जाऊंगा
खामोश जब मैं हो जाऊंगा। न फिर तुमको नज़र आऊंगा। अब तो कहते हो चले जाओ; यादें मगर ऐसी मैं दे जाऊंगा। बदल जाएगा वक्त... Read more
कहानी लंबी है पर छोटा  सा किरदार  मैं  भी  रखती हूँ..
कहानी लंबी है पर छोटा सा किरदार मैं भी रखती हूँ ज़माने के साथ चल सकूँ इतनी रफ़्तार मैं भी रखती हूँ नारी हूँ मैं... Read more