.
Skip to content

ग़ज़ल- अब वक्त ही बचा नहीं…

आकाश महेशपुरी

आकाश महेशपुरी

गज़ल/गीतिका

January 10, 2017

ग़ज़ल- अब वक्त ही बचा नहीं…
मापनी- 221 2121 1221 212
●●●●●●●●●●●●●●●●●●●●●●●
अब वक्त ही बचा नहीं’ भगवान के लिए
यूँ प्यार आ रहा किसी’ अनजान के लिए

तुमसे मिलन की’ आस में’ रस्ता भटक गया
आया नहीं था’ मैं यहाँ’ अपमान के लिए

वो चाहता था’ जीतना’ सारे जहान को
क्यूँ ले के’ जा रहे उसे’ शमशान के लिए

हमने ख़ुशी की’ चाह में’ क्या कुछ न खो दिया
पर वक्त ही रुका नहीं’ वरदान के लिए

परमाणु बम मिसाइलें’ बारूद आजकल
सब कुछ तो’ बन गये यहाँ’ इंसान के लिए

अनमोल है इसे नहीं’ “आकाश” बेचना
पैसा है’ जिंदगी किसी’ नादान के लिए

– आकाश महेशपुरी

Author
आकाश महेशपुरी
पूरा नाम- वकील कुशवाहा "आकाश महेशपुरी" जन्म- 20-04-1980 पेशा- शिक्षक रुचि- काव्य लेखन पता- ग्राम- महेशपुर, पोस्ट- कुबेरस्थान, जनपद- कुशीनगर (उत्तर प्रदेश)
Recommended Posts
ग़ज़ल (वक़्त की रफ़्तार)
ग़ज़ल (वक़्त की रफ़्तार) वक़्त की रफ़्तार का कुछ भी भरोसा है नहीं कल तलक था जो सुहाना कल वही विकराल हो इस तरह से... Read more
वकत् नही
हर खुशी है लोगो के दामन में पर एक हसी के लिये वकत् नही .... दिन रात दौडती दुनिया में , ज़िन्दगी के लिये ही... Read more
वक़्त की ताकत !
वक़्त ही सबको हँसाता, वक़्त ही सबको रुलाता वक़्त ही कुछ घाव देकर, वक़्त ही मरहम लगाता, वक़्त ने छीन ली है, खुद्दारों से उनकी... Read more
वक़्त  के  पाँव  में  जंज़ीर  डालने  का वक़्त था
वक़्त के पाँव में जंज़ीर डालने का वक़्त था ग़म-ए-हयात के क़िस्सों को टालने का वक़्त था यक़ीं नहीं होता किसी को फ़ैसला मेरा था... Read more