"गलवन" के वीरों को नमन

धूर्त चीनियों ने “गलवन” मेँ,
फिर धोखे से वार किया।
ढोंग शान्ति का, करते-करते,
छुरा पीठ में घाँप दिया।।

बीस निहत्थे वीरों पर,
चहुँदिश, कायर आघात किया।
लोहे की राडोँ से उनपर,
निर्मम, कठिन, प्रहार किया।।

हार न मानी किन्तु उन्होंने,
था जमकर प्रतिकार किया।
जाते-जाते भी, दुष्टों के,
चालिस का सँहार किया।।

नमन शौर्य को है, भारत के,
सँप्रेरक बलिदान किया।
अमर शहीदों की गाथा ने,
शीश उच्च, हर बार किया।।

धन्य हुई वो कोख,कि जिसने,
वीरों को आकार दिया,
भारत-माता के चरणों में,
अपना सब कुछ वार दिया।।

व्यर्थ न जाएगी, ये शहादत,
“आशा”,प्रण इस बार किया।
शठ को, शठ की ही भाषा में,
उत्तर का, मन ठान लिया..!

रचयिता-
Dr.Asha Kumar Rastogi
M.D.(Medicine),DTCD
Ex.Senior Consultant Physician,district hospital, Moradabad.
Presently working as Consultant Physician and Cardiologist,sri Dwarika hospital,near sbi Muhamdi,dist Lakhimpur kheri U.P. 262804 M 9415559964

—–//—–//—–//——///—–

9 Likes · 12 Comments · 292 Views
M.D.(Medicine),DTCD Ex.Senior Consultant Physician,district hospital, Moradabad. Presently working as Consultant Physician and Cardiologist,sri Dwarika hospital,near...
You may also like: