कविता · Reading time: 1 minute

गलत अंदाजा

बिना जाने
बिना परखे
बिना बातचीत
मैं उसे बुरा समझ रही थी
जब उसका हाल जाना तो
समझ आया कि
मैं कितनी गलत थी
वह एक अच्छा इंसान था
जो मैंने सोचा था
उससे बिल्कुल अलग
हम किसी के बारे में
क्या क्या सोच लेते हैं
समझ लेते हैं
गलत अंदाजा लगा लेते हैं
बिना कुछ उसके बारे में जाने
कितनी गलत है यह सोच
ऐसा करके
हम अवश्य ही
उस व्यक्ति का
जाने अनजाने
अपमान करते हैं।

मीनल
सुपुत्री श्री प्रमोद कुमार
इंडियन डाईकास्टिंग इंडस्ट्रीज
सासनी गेट, आगरा रोड
अलीगढ़ (उ.प्र.) – 202001

2 Likes · 1 Comment · 72 Views
Like
300 Posts · 15.8k Views
You may also like:
Loading...