23.7k Members 50k Posts
Coming Soon: साहित्यपीडिया काव्य प्रतियोगिता

गलती भी कर रही है, और फैसला भी सुना रही है...

भटकी वो
और भटका मुझे रही थी,
समाज के सामने,
झुठला मुझको रही थी,
जुबां बदलती रही,
मेरे खिलाफ,
हर मुलाकात पे वह,
हर रिश्तों की नजर में,
मुझको गिरा रही थी।
कही तो सबसे की,
मुहब्बत खूब करती हूं,
लेकिन असर प्यार का,
वह विष सा दिखा रही थी।
ना समझ बन कर उसने,
छला हर रिश्ते को,
कुछ पर चोट बाकी है,
अभी उनको सहला रही है।
निर्मल मन,
भोला रूप है उसका,
फरेब में अपने,
सबको बहका रही है।
खुदगर्ज कहूं या,
बेशर्म कहूं उसको,
गलती भी कर रही है,
और फैसला भी सुना रही है।।

1 Like · 285 Views
Anand Kumar
Anand Kumar
280, NIJAMUDDINPURA, MAUNATH BHANJAN, MAU, 275101, UP
10 Posts · 2.4k Views
Journalist Books: No Awards: No
You may also like: