~~!!~~गर~~!!~~

~~!!~~गर~~!!~~
********************
“ग़र, साँचों में ढले
दिन-रात होते,
लफ़्जों में लरजते
ना जज़्बात होते!
ग़र, होती आरज़ू
मंजिलें, खुद-ब-खुद तराशने की,
बैठे, हाथो पे धरे
ना हाथ होते!
ग़र, होती खुशकिस्मत
ख्वाईशें, दिलों की,
यूँ गवारा
ना अपने अरमान होते!
ग़र, होती अमन-पसंद
हसरतें, हर शख्श की,
हमपर हुकूमत करते दिखते –
हम जैसे ही, इंसान ना होते!!”_______दुर्गेश वर्मा

Like Comment 0
Views 3

You must be logged in to post comments.

Login Create Account

Loading comments
Copy link to share