.
Skip to content

गर मर्ज़ है कोई तो दिखा क्यों नहीं लेते

बबीता अग्रवाल #कँवल

बबीता अग्रवाल #कँवल

गज़ल/गीतिका

January 3, 2017

गर मर्ज़ है कोई तो दिखा क्यों नहीं देते
माक़ूल हक़ीमो से दवा क्यों नहीं लेते

तुम दिल में छुपी बात बता क्यों नहीं देते
रूठे हैं अगर वो तो मना क्यों नहीं लेते

जो नोट हुए बन्द वो हो जायेंगे रद्दी
तुम इनको गरीबों में लुटा क्यों देते

किश्तों में न तड़पा कि रुकी जाए है धड़कन
इक बार में ही जान भला क्यों नहीं लेते

घुट घुट के जिए जा रहे बिस्तर पे पड़े हो
परदेश से बेटे को बुला क्यों नहीं लेते

क्यों दिल पे रखे बोझ मियां घूम रहे हो
आँखों से आंसुओं को बहा क्यों नहीं लेते

जो जिंदगी को घुन की तरह चाट रहा है
तुम उसको कँवल दिल से भुला क्यों नहीं लेते

बबीता अग्रवाल #कँवल

Author
बबीता अग्रवाल #कँवल
जन्मस्थान - सिक्किम फिलहाल - सिलीगुड़ी ( पश्चिम बंगाल ) दैनिक पत्रिका, और सांझा काव्य पत्रिका में रचनायें छपती रहती हैं। (तालीम तो हासिल नहीं है पर जो भी लिखती हूँ, दिल से लिखती हूँ)
Recommended Posts
ख़िज़ां के रखवाले बाग में बहार आने नहीं देते
ख़िज़ां के रखवाले बाग में बहार आने नहीं देते, मेरे गुलशन के ख़ार ताजी हवा लाने नहीं देते। वो एक नज़र देख लेते मेरे बिगड़े... Read more
मेरी वफाओ
मेरी वफाओ का इनाम मुझे क्यों नही देते। दिल से अपने मुझे निकाल क्यों नही देते। तुम्हारी किस्मत की लकीरों में नही मैं शायद तो... Read more
कपकपाती थरथराती ये सज़ा क्यों है?
कपकपाती थरथराती ये सज़ा क्यों है फिर भी ठंड का इतना मज़ा क्यों है? ये सिहरन, ये ठिठुरन ये गरमाई क्यों है देर से उठने... Read more
रूठा यार
रूठा मेरा यार,न जाने क्योँ? छोड़ा मेरा साथ, न जाने क्यों? रोयें जज्बात,न जाने क्यों? बिना बात की बात,न जाने क्यों? दिल तो था उदास,... Read more