** अगर बेटों को भी संस्कार देते ...**

अगर बेटों को भी संस्कार देते ,
बेटियों की तरह ही विचार देते ।
समाज ना बनता हृदय विदारक ,
बेटों के बुरे कर्म पर जो मार देते ।।

कोसा हमेशा बेटियों को ही ,
भले ही बेटों से बेहतर होती ।
दुत्कारा हमेशा बेटियों को ही ,
गलती चाहे बेटों की होती ।।

बेटे के मोह में बेटी को मार दिया ,
खुद ही अपना भविष्य उजाड़ दिया ।
बेटी की जान की कीमत ना समझी ,
बेटों के लिए बेटी को वार दिया ।।

अब सोच रहे वृद्धाश्रम में बैठे ,
काश गर्भ में बेेटी मारी ना होती ।
अगर बेटी भी बेटों सी प्यारी होती ,
आज ये हालत हमारी ना होती ।।

मारी बेटी का बुढ़ापे में शौक मना रहे ,
जब बेटे जीते जी उन्हें मुर्दा बता रहे ।
समझ जाओ समय रहते दुनिया वालो ,
उस दिन से पहले कि खोकर पछता रहे ।।

खुदा न खास्ता ऐसा दिन ना आये कभी ,
बेटे तो हों पर बाँधने को राखी बेटियाँ ना रहें ।
कैसे पैदा करोगे बेटे ? कैसे बढ़ाओगे वंश ?
बनाने को बहु गर दुनियां में बेटियाँ ही ना रहें ।।

क्या आप अपनी पुस्तक प्रकाशित करवाना चाहते हैं?

साहित्यपीडिया पब्लिशिंग द्वारा अपनी पुस्तक प्रकाशित करवायें सिर्फ ₹ 11,800/- रुपये में, जिसमें शामिल है-

  • 50 लेखक प्रतियाँ
  • बेहतरीन कवर डिज़ाइन
  • उच्च गुणवत्ता की प्रिंटिंग
  • Amazon, Flipkart पर पुस्तक की पूरे भारत में असीमित उपलब्धता
  • कम मूल्य पर लेखक प्रतियाँ मंगवाने की lifetime सुविधा
  • रॉयल्टी का मासिक भुगतान

अधिक जानकारी के लिए इस लिंक पर क्लिक करें- https://publish.sahityapedia.com/pricing

या हमें इस नंबर पर काल या Whatsapp करें- 9618066119

Like 3 Comment 0
Views 421

You must be logged in to post comments.

Login Create Account

Loading comments
Copy link to share