.
Skip to content

गर आपने हमसे दो पल बात कर ली होती

Shanky Bhatia

Shanky Bhatia

कविता

December 8, 2016

आपकी हमसे सब शिकायतें मिट गयीं होतीं,
गर आपने हमसे दो पल बात कर ली होती।

हज़ारों रिश्ते टूट जाते हैं सिर्फ इतनी बात पर दुनिया में,
ज़ुबाँ पर नहीं आ पाती वो बातें जो चुभती हैं दिलों में।

आपने जो इल्ज़ाम लगा दिया हम पर दिल तोड़ने का,
एक मौका तो दिया होता अपनी नाराज़गियों को मोड़ने का।

नज़रें यूँ मोड़ लेने से रिश्ते टूट नहीं जाते,
ये दिलों के नाते हैं आसानी से छूट नहीं जाते।

वो पल जो साथ बिताए आप भुला नहीं पाएंगे,
हमें तो यकीन है आप लौट कर आएंगे।

भले कर लीजिये जितने शिकवे करने हैं,
जब भी नज़रें मिलाएंगे सारे ही तो मिटने हैं।

आज नहीं तो कल आपको पास बुला लेंगे हम,
आपकी सभी शिकायतों को मिटा देंगे हम।

दिल तो आपका भी चाहता है हमसे मिलने को,
पर बाग का हर फूल समय लेता है खिलने को।

आपसे कह तो आये थे कि आपको भुलायेंगे हम,
पर हर सांस के साथ आपको बुलाएँगे हम।

—————-शैंकी भाटिया
जून 15, 2016

Author
Shanky Bhatia
Recommended Posts
इंसानियत इंसान से पैदा होती है !
एक बूंद हूँ ! बरसात की ! मोती बनना मेरी शोहरत ! गर मिल जाए, किसी सीपी का खुला मुख, मनका भी हूँ... धागा भी... Read more
ये माना घिरी हर तरफ तीरगी है
ये माना घिरी हर तरफ तीरगी है मगर छन भी आती कहीं रोशनी है न करती लबों से वो शिकवा शिकायत मगर बात नज़रों से... Read more
निकलता है
सुन, हृदय हुआ जाता है मृत्यु शैय्या, नित स्वप्न का दम निकलता है। रोज़ ही मरते जाते हैं मेरे एहसास, अश्क बनकर के ग़म निकलता... Read more
अभी पूरा आसमान बाकी है...
अभी पूरा आसमान बाकी है असफलताओ से डरो नही निराश मन को करो नही बस करते जाओ मेहनत क्योकि तेरी पहचान बाकी है हौसले की... Read more