23.7k Members 50k Posts
Coming Soon: साहित्यपीडिया काव्य प्रतियोगिता

गरीब की दिवाली

हर रंग में तून,
हर रूप में तून.
तेरा नूर दुनिया से आली है,
मुझे भी बता भगवन
कुछ उपाय
दिवाली पर मेरी तो
अलमारी खाली है….

एक लाचार, गरीब , के दिल कि दुआ
सुन ले ओ दुनिया के रखवाले
दुनिया तो अपना घर साफ़ कर रही,
मेरे घर में तो लगे हैं जाले ही जाले

तेरी रहमत बरसती है पैसे वालो की पुताई में,
तूने गरीब क्यों बनाया ,रह गया बेचारा मुरझाई में,
सोच सोच कर तेल लाऊँ या दिवाली का दीपक जलाऊ,
या घर का चूल्हा जलाऊ, इस महंगाई में ….

कविअजीत कुमार तलवार
मेरठ

3 Likes · 4 Comments · 1321 Views
गायक और लेखक अजीत कुमार तलवार
गायक और लेखक अजीत कुमार तलवार
मेरठ (उ.प्र.)
624 Posts · 39.1k Views
शिक्षा : एम्.ए (राजनीति शास्त्र), दवा कंपनी में एकाउंट्स मेनेजर, पूर्वज : अमृतसर से है,...
You may also like: